MERE DIL KI BAAT

MERE DIL KI BAAT

Lahrati hui hawon ne jaise tere julfon ko hataya !

Pata hai ek bahana tha use chune ka tumhe !!

Tumne To ek baar main hi najro se mere sine ko chir dala !

Khatam kar diya jhute bramhcharya main lipte sabhi liwaso ko !!

Jo anuthi kisi bharmai hui dastan ka sikar thi !

Tod diya wo riwaj bhi jo hamen kisi bandhan main baandh ke !!

jaise kisi bediyon se sadiyon tak kashmkash me !

laa rahi thi Main kuch soch nai paa raha tha !!

par tumhari aankho ne ek jhatke main khatam kar diya sabkuch !

or ek dhamaka, dil main, Dhundhli si taswir dikhai di mujhe !!

samajne main thoda waqt laga par aawak raha ye taswir toh tumhari thi !

Pata hai paas aata tumahare par chand lamhon ke liye !!

dhadkane jaise ruk si jaati Dur jata toh bas yaad tumhari hi aati !

tum jaise dur rah kar vaigyanik tantron se baat karti !

aisa lagta har pal, har chhn tu mere paas rahti !!

Or tumhari muskurahat ne mujhe sabkuch bata diya !

jo dil main that tere,jo dil main tha mere !!

Tum par wo hasi or bhi pyari hoti !

jab tumhari baton ki banawat mujh par tikti !!

Pata hai jab tum baat karti,toh meri dhadkane ruk kar teri baaten sunti !

Or jab tum baat na karti toh akele pagal sa !!

badbdata apne aap main Phir dekhta or muskurata kisi darpan main !

aankhon ke sapne or dil ke arpan main !!

Phir waqt ke bahaw ne, ek jhatke ne is naswar sharir ko alag kar dala !

Phir lamha-lamha dekhta teri raah dekhta !!

un tasviron main bhi ki shayad tum ek baar aajao !

or khatam kar do sekdon mil ki duriyan chand lamhon main !!

Khatam kar do un sab ko bhi jo !

jhute liwas main hame nanga dekh rahi hai !!

Phir kuch pal sab khamosh, main akela jaise viraniya Charon taraph !

, jaise sunya main vichrta huwa ek parmanu sthaito pane ko !!

or aankho ke sapno main jaise kendratwa ka jwalak !

Aansu nai gire the mere qnki dil ke surkh main bah chukka tha wo !!

or tumhari banawati hasi bhi sabkuch bata rahi thi !

Bata rahi thi mahanagron ke jhute chaka-chondh ka asar tum par !!

Thanks !!!

Kumar Madhukar Jha

MERE DIL KI BAAT | आओ देखो सीखो | Need2think For Your Happynees

मेरे दिल की बात

लहराती हुई हवाओं ने जैसे तेरे जुल्फों को हटाया !

पता है एक बहाना था तुम्हे छूने का !!

तुमने तो एक बार में ही नजरो से मेरे सिने को चिर डाला !

ख़तम कर दिया झूठे ब्रम्ह्चर्य में लिपटे सभी लिवास को !!

जो अनूठी किसी भरमाई हुई दास्तान का शिकार थी !

तोड़ दिया वो रिवाज़ भी जो हमें किसी बंधन में बाँध के !

जैसे किसी बेड़ियों से सदियों तक कशमकश में ला रही थी !!

मैं कुछ सोच नही पा रहा था !

पर तुम्हारी आँखों ने एक झटके में ख़तम कर दिया सबकुछ !!

और एक धमाका दिल में हुई मुझे धुंधली सी तस्वीर दिखाई दी !

मुझे समझने में थोड़ा वक़्त लगा पर अवाक मै रहा !

ये तस्वीर तो तुम्हारी थी !!

पता है पास आता हु तुम्हारे पर चंद लम्हों के लिए !

धड़कने जैसे रुक सी जाती दूर जाता तो बस याद तुम्हारी ही आती !!

तुम जैसे दूर रह कर वैज्ञानिक तंत्रों से बात करती !

ऐसा लगता हर पल हर छन तू मेरे पास रहती !!

और तुम्हारी मुस्कराहट ने मुझे सबकुछ बता दिया !!!

जो दिल में था तेरे जो दिल में था मेरे!

तुम पर वो हँसी और भी प्यारी होती !!

जब तुम्हारी बातों की बनावट मुझ पर टिकती है !

पता है जब तुम बात करती तो मेरी धड़कने रुक कर तेरी बातें सुनती !!

और जब तुम बात न करती तो अकेले पागल सा !

बड़बड़ाता अपने आप में फिर देखता और मुस्कुराता !!

किसी दर्पण में आँखों के सपने और दिल के अर्पण में !

फिर वक़्त के बहाव ने एक झटके ने इस नस्वर शरीर को अलग कर डाला !!

फिर लम्हा-लम्हा देखता तेरी राह देखता !

उन तस्वीरों में भी शायद तुम एक बार आ जाओ !!

और ख़तम कर दो सैकड़ों मिल की दूरियाँ चंद लम्हों में !

ख़तम कर दो उन सब को भी जो !!

झूठे लिवास में हमें नंगा देख रही है !!!

फिर कुछ पल सब खामोश मैं अकेला जैसे वीरानियाँ चरों तरफ !

जैसे शून्य में विचरता हुआ एक परमाणु अस्थायित्व पाने को !!

और आँखों के सपनो में जैसे केन्द्रत्व का ज्वाला !!!

आंसू नही गिरे थे मेरे क्योंकि दिल के सुर्ख में बह चूका था वो आँशु !

और तुम्हारी बनावटी हँसी भी सबकुछ बता रही थी !!

बता रही थी महानगरों के झूठे चका-चोंध का असर तुम पर हो चूका है !!!

धन्यवाद !!!!

कुमार मधुकर झा

[game=1]

One thought on “MERE DIL KI BAAT

  1. Danke! :)Wir wollten eigentlich auch länger bleiben, aber Kroatien war deutlich teurer, als wir angenommen hatten und uns ging die Kohle aus. 🙂 (Okay, wir ließen es uns aber auch gut geAe.n)hber da uns Slowenien so gut gefallen hat und wir auch nicht in Bosnien waren, waren wir uns eigentlich einig der Ecke der Welt ohnehin nochmal einen Besuch abstatten zu müssen. 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *